Thursday, August 23, 2018

नकारात्मक खबरें और बढ़ता ‘आप’ का क्षरण


अरविंद केजरीवालआम आदमी पार्टी के जन्म के साथ उसके भविष्य को लेकर अटकलों का जो सिलसिला शुरू हुआ था, वह रुकने के बजाय बढ़ता जा रहा है. उसके दो वरिष्ठ नेताओं के ताजा इस्तीफों के कारण कयास बढ़ गए हैं. 
ये कयास पार्टी के आंतरिक लोकतंत्र, उसकी रीति-नीति, लतिहाव, दीर्घकालीन रणनीति और भावी राजनीति को लेकर हैं. इस किस्म की खबरों के बार-बार आने से पार्टी का पटरा बैठ रहा है.
पार्टी के उदय ने देश में नई राजनीति की सम्भावनाओं को जन्म दिया था. ये सम्भावनाएं ही अब क्षीण पड़ रहीं हैं. उत्साह का वह माहौल नहीं बचा, जो तीन साल पहले था. पार्टी का नेतृत्व खुद बहुत आशावान नहीं लगता.
पैरों में लिपटे भँवर
हाल में पार्टी ने 2019 के लोकसभा चुनाव में दिल्ली की सात सीटों को लेकर एक सर्वेक्षण कराया है, जिसमें उसने सात में से चार सीटों पर सफल होने की उम्मीद जाहिर की है. यह उसका अपना सर्वे है. यह उसकी मनोकामना है.
पार्टी बताना चाहती है कि हम दिल्ली में सबसे बड़ी ताकत हैं. शायद वह सही है, पर उसे अपना क्षरण भी दिखाई पड़ रहा है. प्रमाण है उसके अपनों का साथ छोड़कर जाना. यह आए दिन का टाटा-बाई-बाई अच्छा संकेत नहीं है.
पार्टी की आशा और निराशा के ज्यादातर सूत्र दिल्ली की राजनीति से जुड़े हैं. उसकी लोकप्रियता की अगली परीक्षा लोकसभा चुनाव में होगी. पर उस चुनाव की तैयारी उसके अंतर्विरोधों को भी बढ़ा रही है. चुनाव लड़ने के लिए साधन चाहिए, जिनके पीछे भागने का मतलब है पुराने साथियों से बिछुड़ना. साथ ही चुनाव जीतने के लिए जाति, धर्म, क्षेत्र और इसी किस्म के दूसरे फॉर्मूलों पर भी चलना है, क्योंकि चुनाव जीतने के लिए वे जरूरी होते हैं. यह सब 'नई राजनीति' की अवधारणा से मेल नहीं खाता.
बीजेपी और कांग्रेस दोनों से पंगा लेने के कारण उसकी परेशानियाँ बढ़ी हैं. उसके आंतरिक झगड़े पहले भी थे, पर अब वे सामने आने लगे हैं. झगड़ों ने उसके पैरों को भँवर की तरह लपेटना शुरू कर दिया है.

पुरानों के अपेक्षाएं
पुराने कार्यकर्ताओं की अपेक्षाएं पूरी नहीं हो पाईं हैं, वहीं नई ताकतें मंच पर प्रवेश कर रहीं हैं. इससे विसंगतियाँ खड़ी हो रहीं हैं. राज्यसभा चुनाव में ये विसंगतियाँ देखने को मिलीं और अब लोकसभा चुनाव में भी उभरेंगी. आज हालत यह है कि पार्टी के आधे से ज्यादा संस्थापक सदस्य बाहर हैं और उसकी बखिया उधेड़ने में सबसे आगे हैं.
आशुतोष के अलावा आशीष खेतान के इस्तीफे की खबर देर से आई, पर जो जानकारी मिली है, उसके अनुसार दोनों ने एकसाथ इस्तीफे दिए थे. इस्तीफे स्वीकार नहीं हुए हैं. पार्टी की राजनीतिक मामलों की समिति को इस्तीफों पर सला करना है. हाल ही में हुई पीएसी की बैठक में कोई फैसला नहीं हुआ.
अफवाहें ही अफवाहें
आशीष खेतान का कहना है कि मैं वकालत पर ध्यान लगाना चाहता हूँ, पर वकालत का राजनीति से बैर नहीं है. तमाम वकील राजनीति में सक्रिय हैं. इस्तीफे की खबरें मीडया में आने के बाद खेतान ने ट्वीट किया, मैंने वकालत शुरु करने के लिए ही अप्रैल में दिल्ली संवाद आयोग से इस्तीफा दे दिया था. यही एक हकीकत है, बाकी अफवाहों में मेरी दिलचस्पी नहीं.
कौन सी अफवाहें क्या है अफवाहें? पार्टी सूत्रों के हवाले से ही खबर है कि लोकसभा चुनाव में पार्टी ने पांच सीटों के लिए पार्टी ने जिन्हें चुना है, उनमें इन दोनों के नाम शामिल नहीं हैं.
पर यह निराशा पैदा हो गई थी जब राज्यसभा के लिए दो ऐसे प्रत्याशी सामने आए, जो शरीके-सफर न थे. यानी कि अपरिचित यात्री थे, जो बाद में ड्राइवर की सीट पर बैठा दए गए.
क्या दोनों साथ रहेंगे?
कहा जा रहाहै कि शायद पार्टी दोनों नेताओं से जुड़े रहने की अपील करेगी. ससे होगा क्या? शायद वकालत में राजनीतिक जुड़ाव दिक्कत पैदा नहीं करेगा, पर सक्रिय पत्रकारिता के लिए राजनीतिक दल की सदस्यता दिक्कत पैदा करेगी.
बहरहाल यह व्यक्तिगत निराशा है या पार्टी की दशा-दिशा को लेकर इनके मन में कोई शुबहा पैदा हो रहा है. पार्टी इससे पहले जो इस्तीफे हुए हैं या निकाला गया है, वे सब मामले सीधे-सीधे तकरार के थे.
ताजा मामले तकरार के नहीं हैं. असंतोष के हैं. दिक्कत यह है कि पार्टी के पास देने के लिए पुरस्कार कम होते जा रहे हैं. बहरहाल अटकलें इसलिए भी हैं, क्योंकि बहुत सी बातें साफ नहीं है. पार्टी से अलग होने वालों को भी अपनी बात स्पष्ट करनी चाहिए.
असंतोष क्यों?
वास्तविक वजह सामने नहीं आएगी तो अटकलें लगाई ही जाएंगी. जब आशुतोष राजनीति में आए थे, तब उन्होंने लम्बा-चौड़ा लेख लिखकर बताया था कि मैं राजनीति में क्यों आया हूँ. अब उन्हें यह भी बताना चाहिए कि वे इसे छोड़ना क्यों चाहते हैं.
इस स्पष्टीकरण की अनुपस्थिति में कयासबाजी स्वाभाविक है. इससे पार्टी का नुकसान हो रहा है. उसकी छवि बिगड़ रही है. सायास या अनायास पार्टी मजाक का विषय बन रही है.
आंतरिक उमड़-घुमड़ के अलावा पार्टी की वाह्य राजनीति भी असमंजस से पीड़ित है. दिल्ली और पंजाब की राजनीतिक अनिवार्यताओं के कारण कांग्रेस ने उसके साथ जुड़ने से इनकार कर दिया है. पर महागठबंधन के अनेक दलों की दिलचस्पी इस पार्टी में है.
वैचारिक असमंजस
आम आदमी पार्टी को कांग्रेस से अलग दिखाना है, तो उसे महागठबंधन से भी दूरी बनानी होगी. हाल में अरविंद केजरीवाल ने महागठबंधन के प्रति भी अपनी अरुचि जाहिर की है. उन्होंने यह भी कहा कि जो पार्टियां महागठबंधन में शामिल हो रही हैं, उनकी देश के विकास में कोई भूमिका नहीं है.
पार्टी अब दिल्ली-हरियाणा-पंजाब तक अपनी राजनीति को सीमित रखना चाहती है और अपनी छवि उसके अनुरूप तैयार कर रही है. इस इलाके में कांग्रेस और बीजेपी के समांतर एक ताकत के रूप में उभरने की कामना सिद्धांततः गलत नहीं है, पर यह लम्बा रास्ता है. दिक्कत इसके नेतृत्व में है, जिसकी स्पीड का पता नहीं लगता. कब धीमी चले और कब तेज. इसमें लम्बा रास्ता तय करने की सामर्थ्य होती तो इतनी टूट-फूट हुई भी न होती. 

2 comments:

  1. आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा कल शुक्रवार (24-08-2018) को "सम्बन्धों के तार" (चर्चा अंक-3073) (चर्चा अंक-3059) पर भी होगी।
    --
    सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है।
    --
    चर्चा मंच पर पूरी पोस्ट नहीं दी जाती है बल्कि आपकी पोस्ट का लिंक या लिंक के साथ पोस्ट का महत्वपूर्ण अंश दिया जाता है।
    जिससे कि पाठक उत्सुकता के साथ आपके ब्लॉग पर आपकी पूरी पोस्ट पढ़ने के लिए जाये।
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    ReplyDelete
  2. ब्लॉग बुलेटिन की आज की बुलेटिन, छाता और आत्मविश्वास “ , मे आप की पोस्ट को भी शामिल किया गया है ... सादर आभार !

    ReplyDelete