Saturday, January 5, 2013

आपकी उदासीनता??!!!?


     

सड़क पर फैला खून...
तैरकर या लांघकर निकल जाते हैं लोग
चुपचाप, बिना रुके...
कहां भीगता है कोई इस शहर में
-विजय किशोर 'मानव'


दिल्ली में बलात्कार का शिकार हुई लड़की के मित्र ने ज़ी न्यूज़ को इंटरव्यू में उस दिन की घटना और उसके बाद पुलिस की प्रतिक्रिया और आम जनता की उदासीनता का जो विवरण दिया है वह एक भयावह माहौल की ओर संकेत करता है। टीवी चैनल को दिए साक्षात्कार में पीड़ित लड़की के मित्र ने पूरी घटना का सिलसिलेवार ब्योरा दिया है। लड़के का कहना था कि पीड़ित ने 100 नंबर पर पुलिस कंट्रोल रूम को फोन करने की कोशिश की थी, लेकिन अभियुक्तों ने उसका मोबाइल फोन छीन लिया। उनकी दोस्त के शरीर से बहुत ज्यादा खून बह रहा था। जब उसे और पीड़ित लड़की को नग्न अवस्था में बस से फेंक दिया गया तो उन्होंने राह पर आते-जाते लोगों को रोकने की कोशिश की लेकिन 20-25 मिनट तक कोई नहीं रुका। करीब 45 मिनट बाद पुलिस की पीसीआर वैन्स घटनास्थल पर पहुंची लेकिन आपस में अधिकार क्षेत्र तय करने में उन्हें समय लगा। वह बार-बार कोई कपड़ा दिए जाने की गुहार लगाता रहा लेकिन किसी ने उसकी बात न सुनी और काफी देर बाद एक बेडशीट फाड़ कर दी गई जिससे उसने पहले अपनी मित्र को ढँका। शायद उन्हें डर था कि वे रुकेंगे तो पुलिस के चक्कर में फंस जाएंगे। अस्पताल पहुंचने पर भी ठीक से मदद नहीं मिली। वहां भी किसी ने तन ढकना जरूरी नहीं समझा। युवक के अनुसार, वह वारदात की रात से ही स्ट्रेचर पर था। 16 से 20 दिसंबर तक वह थाने में ही रहा। इस दौरान पुलिस ने उसका उपचार भी नहीं करवाया। 

क्या यह आम नागरिक की बेरुखी थी? या व्यवस्था से लगने वाला डर? 
दुष्यंत कुमार की इन पंक्तियों में शायद यही बात हैः-

इस शहर में वो कोई बारात हो या वारदात
अब किसी भी बात पर
खुलती नहीं हैं खिड़कियाँ 

सरकारी व्यवस्था की उदासीनता को कोस कर क्या होगा, जब सामान्य व्यक्ति भी उतना ही उदासीन है। सरकार किसकी है? आपकी ही तो है? 


कोई नहीं आया मदद के लिए बीबीसी समाचार
ज़ी न्यूज़ पर इंटरव्यू

6 comments:

  1. संवेदनाहीन समाज हो गए हैं हम

    ReplyDelete
  2. हर पग पर संवेदनहीनता ही दिखी है..

    ReplyDelete
  3. जाने अंजाने हम सब भी इसी का हिस्सा बन गए है ...हर इंसान खुद को कानून के दाव पेंच से दूर रखता है

    ReplyDelete
  4. हाथ बढ़ा कर सहारा देने के लिए संवेदन शील होना जरुरी होता है ...कितने मेकेनिकल हो गया है हमारा समाज ..

    ReplyDelete

  5. मेरे चिराग बुझा के हवा ने रोना था
    तमाशा ये भी मेरे ही शहर में होना था

    मैंने तो मरने दिया उसको सामने अपने
    खबर पढ़ी तो फिर क्या उदास होना था

    सुरजीत पात्र

    ReplyDelete