Showing posts with label बंगाल. Show all posts
Showing posts with label बंगाल. Show all posts

Sunday, April 7, 2013

अलोकप्रियता के ढलान पर ममता की राजनीति

राजनेता वही सफल है जो सामाजिक जीवन की विसंगतियों को समझता हो और दो विपरीत ताकतों और हालात के बीच से रास्ता निकालना जानता हो। ममता बनर्जी की छवि जुनूनी, लड़ाका और विघ्नसंतोषी की है। संसद से सड़क तक उनके किस्से ही किस्से हैं। पिछले साल रेल बजट पेश करने के बाद दिनेश त्रिवेदी को उन्होंने जिस तरह से हटाया, उसकी मिसाल कहीं नहीं मिलती। उनकी तुलना जयललिता, मायावती और उमा भारती से की जाती है। कई बार इंदिरा गांधी से भी। मूलतः वे स्ट्रीट फाइटर हैं। उन्हें इस बात का श्रेय जाता है कि उन्होंने वाम मोर्चा के 34 साल पुराने मजबूत गढ़ को गिरा कर दिखा दिया। पर लगता है कि वे गिराना जानती हैं, बनाना नहीं। इन दिनों बंगाल में अचानक उनकी सरकार के खिलाफ आक्रोश भड़क उठा है। सीपीएम की छात्र शाखा एसएफआई के नेता सुदीप्तो गुप्ता की मौत इस गुस्से का ट्रिगर पॉइंट है। यह सच है कि वे कोरी हवाबाजी से नहीं उभरी हैं। उनके जीवन में सादगी, ईमानदारी और साहस है। वे फाइटर के साथ-साथ मुख्यमंत्री भी हैं और सात-आठ मंत्रालयों का काम सम्हालती हैं। यह बात उनकी जीवन शैली से मेल नहीं खाती। फाइलों में समय खपाना उनका शगल नहीं है। उन्होंने सिर्फ अपने बलबूते एक पार्टी खड़ी कर दी, यह बात उन्हें महत्वपूर्ण बनाती है, पर इसी कारण से उनका पूरा संगठन व्यक्ति केन्द्रित बन गया है।  

Thursday, June 3, 2010

बंगाल में ममता की जीत

बंगाल में ममता बनर्जी ने निरंतर अपने प्रयास से वाम मोर्चे के दुर्ग में दरार पैदा कर दी है। हलांकि ये नगरपालिकाओं के चुनाव थे। इनसे गाँवों की कहानी पता नहीं लगती, पर 2009 के लोक सभा चुनाव में स्पष्ट हो गया था कि तृणमूल पार्टी ने ग्रामीण क्षेत्र में भी अच्छी घुसपैठ कर ली है। इन परिणामों का संदेश यह है कि वाममोर्चा नैतिक रूप से बंगाल पर राज करने का अधिकार खो चुका है। बेशक वह चाहे तो एक साल तक उसकी सरकार और चल सकती है, पर यह सिर्फ वक्त बिताना होगा। अब जैसे-जैसे दिन बीतेंगे ममता बनर्जी का दबाव बढ़ता जाएगा।

बंगाल पर वाम मोर्चे के शासन के अच्छे और बुरे पहलू दोनों हैं। वाम मोर्चे ने यहाँ तीन दशक से ज्यादा समय तक शासन किया। यह दुनिया के किसी भी इलाके मे लोकतांत्रिक रूप से चुनी गई सबसे पुरानी कम्युनिस्ट सरकार  है। इतने अर्से से शासन में रहने के कारण पूरी व्यवस्था मे एक संगति है। वाम मोर्चे के कार्यकर्ताओं ने प्रदेश में सिर्फ राजनीति ही नहीं की, सामाजिक-सांस्कृतिक कार्यक्रमों को चलाया। सरकारी कर्मचारियों के भ्रष्टाचार पर अंकुश रखने का एक बेहतर तरीका पार्टी के पास था। पर इस परिस्थिति ने पार्टी कार्यकर्ताओं की एक समांतर शक्ति भी तैयार कर दी। पार्टी कार्यकर्ता अगर समझदार और अनुशासित होते तो वाममोर्चे को हरा पाना आसान न होता। अब वाममोर्चा हार चुका है। वाम मोर्चे के कार्यकर्ता इतने ताकतवर थे कि कोई दूसरा गाँवो के भीतर घुस नहीं सकता था। वे बुनियाद तक प्रवेश कर चुके थे। इनके बीच तृणमूल कार्यकर्ता अगर पहुँचे हैं तो इसका मतलब है वे कम ताकतवर नहीं हैं। साथ ही उन्हें वाममोर्चे के कुंठित कार्यकर्ताओं का समर्थन भी हासिल है। इनमें नक्सली भी शामिल हैं।

बंगाल में चुनाव कब होंगे, यह परिस्थितियाँ बताएंगी, पर इतना लगता है कि कांग्रेस और तृणमूल को साथ आना होगा, क्योंकि नगरपालिका चुनाव में कोलकाता में तो ममता बनर्जी ने जबर्दस्त विजय हासिल कर ली, पर शेष प्रदेश में उसे 80 में 27 और कांग्रेस को 7 नगरपालिकाओं में ही जीत हासिल हुई। वाममोर्चा को 2005 में जहां 60 पालिकाओं पर जीत मिली थी, इसबार सिर्फ 17 पर जीत मिली। 29 पालिकाओं में त्रिशंकु सदन हैं। इसका मतलब है वाममोर्चा हार गया है, पर तृणमूल पूरी तरह जीती नहीं है। आज कोलकाता के अंग्रेजी अखबार टेलीग्राफ का शीर्षक ध्यान देने लायक है, 'क्वीन ऑफ कैलकटा, नॉट ऑफ बंगाल यट'

बंगाल एक जबर्दस्त अंतर्मंथन से गुजर रहा है। पिछले 33 साल में वहां राजनैतिक कार्यकर्ताओं की कम से कम दो पीढ़ियाँ तैयार हो चुकीं हैं। अचानक उनके सिर से साया हटने का मतलब है बेचैनी। यह बेचैनी अगले चुनाव तक मुखर होकर दिखाई पड़ेगी। बंगाल की राजनीति में लहू भी बहुत बहता है। और यह लोकतांत्रिक व्यवस्था के लिए अच्छी बात नहीं।